खगड़िया टाउन हॉल में “अतिपिछड़ा अधिकार मंच” के बैनर तले अतिपिछड़ा समाज संगठित होकर अपने अधिकारों के लिए लड़ने का फैसला किया तथा आगामी चुनाव में अतिपिछड़ा को अधिकार नहीं देने पर चुनाव में सबक सीखने का निर्णय लिया.

अतिपिछड़ा समाज के लिए अनुसूचित जाति जनजाति एक्ट जैसे कानून की माँग

मंच के अध्यक्ष नवीन प्रजापति ने कहा कि अतिपिछड़ा समाज की आबादी 40 प्रतिशत से अधिक है फिर भी यह समाज राजनीतिक-समाजिक रूप से बेहद दयनीय स्थिति में है. आज सभी राजनीतिक पार्टियों में अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ है, लेकिन उनकी नीतियाँ अतिपिछड़ा के पक्ष में नहीं है. हर जगह इस समाज पर ज़ुल्म हो रहा है, इसलिए हमलोग अतिपिछड़ा उत्पीड़न निवारण क़ानून बनाने की माँग कर रहे हैं- जैसा कानून अनुसूचित और जनजाति के लिए है. इस प्रस्तावित कानून के तहद हर जिला के  थाना में अतिपिछड़ा जाति के लोग हों. उनका प्रतिनिधित्व हो. इस कानून के बनने से समाज के लोगों पर निश्चित रूप से उत्पीड़न कम होगा.

Atipichhada Adhikar Mahasabha Khagaria Bihar Bihar, Photo The National Press, 03.02.2019 b

अतिपिछड़ा समाज के लिए अलग से निर्वाचन, शिक्षा और नौकरी में 33% आरक्षण की माँग

सभा को संबोधित करते हुए मंच के सचिव प्रमोद नागर ने अतिपिछड़ा को 33 प्रतिशत नौकरी एवं शिक्षा में आरक्षण की माँग की. उन्होंने ने अतिपिछड़ा समाज के लिए विधानसभा, लोकसभा, विधानपरिषद और राज्यसभा में 33 प्रतिशत सीट पर आरक्षित की भी माँग की.

वोट की ताकत से जबाब दिया जाएगा

उन्होंने कहा की अगर मोदी-नीतीश सरकार हमारी माँगों पर कोई ठोस पहल नहीं लेता है तो अतिपिछड़ा समाज इनको वोट की ताकत से जवाब देगा. सभा को सम्बोधित करते हुए शिवशंकर ठाकुर अधिवक्ता ने कहा कर्पूरी ठाकुर का माला सब पार्टी जपते हैं लेकिन वास्तविक रूप से उस समाज को कोई अधिकार नहीं देना चाहता. सवर्ण समाज जिसकी आबादी 15 प्रतिशत है को 72 घण्टे में आरक्षण दे दिया. लेकिन 45 प्रतिशत अतिपिछड़ा को 40 प्रतिशत आरक्षण देने की बात कोई नहीं करता है. सभा को सम्बोधित करते हुए आलोक नागर ने कहा अतिपिछड़ों की ताकत नहीं पहचान पा रहे हैं उन्हें इस चुनाव में पता चला जायेगा. जब अतिपिछड़ा संगठित होकर एकतरफ वोट करेगा जो बिहार में अतिपिछड़ा की मांगों को पूरा करेगा. सभा की अध्यक्षता गणेश तांती संचालन दिवाकर शर्मा ने किया.  सभा के अंत में दिवाकर शर्मा ने उपस्थित लोगों से पूछा आगामी लोकसभा चुनाव में अतिपिछड़ा समाज को क्या करना चाहिए तो सभा में उपस्थित सभी लोगों ने ध्वनि मत से अतिपिछड़ा समाज का सुयोग्य उम्मीदवार उतरेगा.

एक सामान शिक्षा व्यवस्था की माँग

सभा को सम्बोधित करते हुए मंच के उपाध्यक्ष दिलीप साहनी ने कहा हमलोगों ने एक समान शिक्षा की मांगों को अपने आंदोलन का हिस्सा बनाए हुए हैं सच्चाई यही है एक समान शिक्षा लागू किये बिना समाज के गरीबों के साथ सरासर अन्याय है. सभा को सम्बोधित करते हुए जितेन्द्र शर्मा ने कहा अतिपिछड़ा अब जाग गया है और अपने अधिकार को हर कीमत पर लेगा. हर जिले में अब अतिपिछड़ा मंच सभा कर अपना अपना अधिकार की मांग करेगा.

c

बेहतर चिकित्सा सुविधा की माँग

सभा में बात रखते हुए चन्देश्वर नागर ने कहा मंच ने खगड़िया में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संसथान (ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज/ AIIMS/ एम्मस) जैसा अस्पताल बनाने की मांगों पर अडिग है सांसद विधायक को कहीं भी ईलाज करा लेते हैं लेकिन आम ग़रीब जनता रोज़ बिना दवा ईलाज से मरता है.

सभा को सिकंदर साह, अरुण पंडित, भगवान मंडल, नंदकिशोर शर्मा, सदानन्द मंडल, निर्भय निषाद, गौतम प्रीतम,रौशन कुमार,देव प्रजापति, सुधीर ठाकुर, दिलीप प्रजापति इत्यादि लोगों से सम्बंधित किया.