बहुजन और न्यायप्रिय युवाओं ने देश अनुसूचित जाति/ जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक व समस्त न्यायप्रिय  के जनता से अहवाह किया है कि वे लोक सभा चुनाव 2019 में महागठबंधन को समर्थन करें. साथ ही उन तत्वों सचेत रहने को कहा है जो महागठबंधन के समर्थन और मुद्दों से भटकाने की कोशिश  हैं.

उन्होंने सामाजिक संगठनो से यह अपील जारी किया है –
भारत मे सामाजिक न्याय व परिवर्तन के आंदोलन को लेकर कई छोटे बड़े संगठन सक्रिय है जो बाबा साहब, राम मनोहर लोहिया, मान्यवर कांशीराम साहब के आंदोलन व वैचारिकी को आगे बढ़ाने का कार्य करते है.

लेकिन अब सम्पूर्ण भारत में अब लोकतंत्र और भारतीय संविधान को बचाने के साथ मानवतावादी मूल्यों और अधिकारों को पुनर्स्थापित करने की लड़ाई है. वर्तमान भाजपा सरकार ने SC, ST, OBC, माइनॉरिटी के साथ सभी न्यायप्रिय जनता के अधिकारों व स्वाभिमान को कुचला है, संवैधानिक संस्थाओं में छेड़छाड़ करके उनकी वैधानिक प्रक्रिया को ध्वस्त किया गया ताकि वे वंचितों पिछड़ो व न्यायप्रिय जनता के पक्ष में न खड़ी होकर पूंजीवादी, सामंतवादी व मनुवादी शक्तियों के साथ मिलकर जनसमान्य के शोषण में लिप्त है ऐसी स्थिति में  नागरिक और संवैधानिक अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाले संगठनों को अपना राजनैतिक रूख और सक्रियता स्पष्ट करने की जरूरत है.

इस दौर में यह कहकर नही बचा जा सकता कि आप केवल सामाजिक संगठन है। इस तानाशाही सत्ता ने तमाम सामाजिक संगठनों को कुचला है और मानवाधिकार के लिए कार्यरत तमाम साथियों को झूठे मामलों में उलझाकर जेल में भी डाला है.

उदाहरण के तौर पर आप अर्थशास्त्री ज्यां एंड्रे के मामले को देख सकते है.

अपने तानाशाही सनक में आदिवासी समाज के अधिकारों के लिए सक्रिय कई कार्यकर्ताओं को इसी सत्ता ने जेल में ठूंस दिया है। विशेष रूप से उत्तर प्रदेश में सक्रिय तमाम सामाजिक संगठनों से अपील है कि वे अपना रुख और सक्रियता स्पष्ट करें कि आप किधर है.

युवाओं ने और महागठबंधन के समर्थकों के तौर पर हम समाज की एकता को तोड़ने वाले किसी भी व्यक्ति को बर्दाश्त नही करेंगे और उनका सामाजिक बहिष्कार और प्रतिरोध करेंगे.

युवाओं से अपील: जब देश भर में SC/ ST अत्यचार निवारण अधिनियम को वर्तमान मनुवादी पूंजीवादी सामंतवादी सत्ता के द्वारा कामजोर करने का प्रयास किया गया तब इस देश के सभी SC, ST, OBC, माइनॉरिटी और न्यायप्रिय लोगो ने एक साथ आकर प्रतिकार किया.

जब पूरे भारत में उच्च शिक्षा में 13 पॉइंट रोस्टर के जरिये SC ST OBC के 49.5% के प्रतिनिधित्व के अधिकार पर डाका डाला गया तब भी सभी ने एक साथ आकर तानाशाही सत्ता को मुंहतोड़ जवाब दिया.

महागठबंधन की पार्टियों ने खासकर उत्तर प्रदेश से  सपा बसपा ने लोकसभा व राज्यसभा में अपना पुरजोर प्रतिरोध दर्ज कराया। आज के तमाम युवा कार्यकर्ताओं की यह जिम्मेदारी है वे ऐसी शक्तियों का प्रतिरोध करे जो हमारी सामाजिक और राजनैतिक एकता को तोड़कर मनुवादी सामन्तवादी पूंजीवादी दलों के साथ खड़े हो रहे है.

हम पूरे पूर्वांचल में नकारात्मक शक्तियों का प्रतिरोध करेंगे और सभी से ऐसा करने की अपील करेंगे.

संवादाता सम्मलेन को रविन्द्र प्रकाश भारतीय, अम्बिका प्रसाद, सिकंदर मौर्य, प्रिया यादव, सतीश त्यागी, अजय कुमार सिद्धार्थ, अरविंद कुमार, डॉ. अखिलेश कुमार, राहुल कुमार भारती, और मनोज राव ने समोधित किया.