Author: RuleTheWebWorld

चौधरी चरण सिंह के जयंती पर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा का पूरा भाषण

Read More

जय प्रकाश नारायण यादव (RJD) के आरक्षण की माँग पर उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान लोक सभा में साधी चुप्पी: उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2018

Read More

दलितों का हनुमान मंदिर पर कब्जा: ब्राह्मणशाही के खात्मे की दिशा में एक ऐतिहासिक पहल – एच. एल. दुसाध

Read More

जय प्रकाश नारायण यादव (RJD) के आरक्षण के माँग पर उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान लोक सभा में साधी चुप्पी: उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2018 लोक सभा में पारित

Read More

The Socio-Economic Problem of Heavy Expenditure in Indian Marriage Anchal

Anchal is focusing on the thoughts of heavy expenditure and show off in Indian marriage. She is focusing on the Indian mentality and result of the heavy expenditure. As we know that because of this culture many parents have the force to take the loan from the money lender, family, friends and the bank. And the result is these many families are living a life under the loan repayment pressure. This culture is also led to many girls and family in depression. Read and critically comment on the article – Editor

Read More

प्रतिनिधित्व (आरक्षण) का बँटवारा: प्रतिनिधित्व का लोकतान्त्रिक विस्तार या “घर तोड़ने की साजिश”

“घर तोड़ने की साजिश” की बात पहली बार तब की गई थी जब जब अंग्रेजो ने भारत सरकार अधिनियम के तहद दो वर्गों को सरकारी नियुक्तियों में प्रतिनिधित्व (आरक्षण) दिया था जिसे अनुसचित जनजाति और अनुसूचित जाति के रूप में पहचाना गया. दूसरी बार इसे महात्मा गाँधी आंबेडकर के सामने दुहराते हैं (पुना पैक्ट), तीसरी बार कर्पूरी ठाकुर द्वारा मुंगेरीलाल कमीशन लागु करने के बाद और चौथी बार मंडल कमीशन लागु करने के बाद दुहराया जाता है. आज फिर “घर तोड़ने की साजिश” की बात हो रही है. कनकलता यादव का विश्लेषण पढ़िए और लेख पर आलोचनात्मक कमेंट करें- संपादक

Read More

क्या महात्मा गांधी नस्लवादी थे? घाना, अफ्रीका में उठता सवाल.

क्या महात्मा गाँधी नश्लीय भेद-भाव करने वाले थें? 2015 में साउथ अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में मूर्ति का विरोध किया गया. इसके बाद घाना यूनिवर्सिटी में 2016 में लगे वहां के छात्रों और शिक्षकों ने आंदोलन करके दिसंबर 2018 में हटाया। इन सभी घटनाक्रम पर प्रकश डाल रहें हैं अफ़्रीकी मामलों के विशेषज्ञ राजेश कुमार मंडल। लेख पर आलोचनात्मक कमेंट कर विमर्श को आगे बढ़ाएं – संपादक

Read More

नेशनल प्रेस में आपका स्वागत है. बेहतरी के लिए कृपया कुछ बदलाव को स्वीकार करें।

Read More

दलितों का हनुमान मंदिर पर कब्जा: ब्राह्मणशाही के खात्मे की दिशा में एक ऐतिहासिक पहल

Read More

नेशनल प्रेस में आपका स्वागत है. बेहतरी के लिए कृपया कुछ बदलाव को स्वीकार करें।

Read More