Category: Girls and Women

महिला आंदोलन, पितृसत्ता और जाति में सम्बन्ध: एक नया आयाम डॉ. मुखत्यार सिंह

Read More

JNU में पिछड़ी – अतिपिछड़ी – पसमन्दा महिलाओं का सम्मेलन 2019: बहुजन महिलाओं का सम्मेलन

Read More

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न केस में नितीश कुमार के खिलाफ CBI जाँच के आदेश के बाद RLSP ने नैतिकता के आधार पर माँगा इस्तीफा

Read More

भाजपा-जदयू के राज में अनुसचित जाति की लड़कियां सुरक्षित नहीं: कैमूर, बिहार की घटना

Read More

भिखारी ठाकुर की तुलना शेक्सपियर से करना भिखारी ठाकुर का अपमान है.

भिखारी ठाकुर को बिहार का शेक्सपियर कहा जाता है. लेकिन आँचल ने एक नया बहस छेड़ा है कि भिखारी ठाकुर और शेक्सपियर दोनों के लेखन क्षेत्र अलग-अलग हैं और इसलिए भिखारी ठाकुर की तुलना शेक्सपियर से करना उचित नहीं है. भिखारी ठाकुर अपनी लेखनी और कला से समाज में परिवर्तन चाहतें थें, जबकि शेक्सपियर का ऐसा कोई उद्देश्य नहीं था. आँचल का मानना है कि ऐसी तुलना भिखारी ठाकुर को बड़ा दिखाने के लिए किया जाता है जबकि ऐसा करना भिखारी ठाकुर का अपमान है. आप अध्येताओं से निवेदन हैं, लेख शेयर करें साथ ही अपनी टिपण्णी और प्रतिक्रिया भी दें – संपादक

Read More
Loading